UttarakhandDIPR

राज्य के नौ जिलों में कुछ रूटों पर दौड़ीं निजी बसें

 

हिमाचल: कैबिनेट ने प्रदेश में अब बसों में 100 फीसदी सवारियां बैठाने की सैद्धांतिक मंजूरी दी है। यह प्रक्रिया कब से लागू होगी, इसकी अधिसूचना जल्द जारी हो सकती है। इसके बाद शुक्रवार को निजी बस संचालकों ने प्रदेश के नौ जिलों में निजी बसें चलाईं। ऊना-हमीरपुर के ऑपरेटर अभी अपनी मांगों को लेकर अडे़ हैं। निजी बसें चलने से इससे कामकाज के लिए आने-जाने वाले लोगों को राहत मिली है। जिला कांगड़ा में 850 निजी रूटों में से 20 पर ही बसें चलाई गईं। विज्ञापन जिला मंडी में 450 रूटों में से 75, चंबा में 132 में से 18 रूटों पर, सोलन में 220 में से चार रूटों पर निजी बसें चल रही हैैं। ये सभी रूट सोलन-शिमला मार्ग के हैं।

वहीं, सोलन के निजी बस ऑपरेटरों ने एक जुलाई से दोबारा सभी रूट ठप करने की चेतावनी दी है। शिमला में एक ही निजी बस चल रही है। जिला कुल्लू में 150 में से 40 रूटों पर बसें चल रही हैं। सोमवार को 40 और रूटों पर सुविधा देने का निर्णय लिया गया है। वहीं, सिरमौर में 160 में से 22 रूटों पर एक जून से ही बसें चल रही हैं। बिलासपुर में 315 निजी बसों में से 6 ही चल रही हैं। इनमें चार बिलासपुर-मंडी, एक डाडासीबा-शिमला और एक बरमाणा बिलासपुर रूट शुरू किए गए हैं।

वहीं, किन्नौर में दो दर्जन रूटों में से 3 पर ही निजी बसें चलाई गईं। हिमाचल में 30 फीसदी से ज्यादा नहीं बढ़ी सवारियों की ऑक्यूपेंसी प्रदेश मुख्यालय शिमला से विभिन्न जिलों में भेजी जा रहीं बसों में सवारियों की ऑक्यूपेंसी 30 फीसदी से ज्यादा नहीं बढ़ गई है। परिवहन विभाग की ओर से कैबिनेट में दी गई प्रजेंटेशन में इसका खुलासा हुआ है।

Leave a Reply